Search
Close this search box.

अब यूपी पुलिस चांद की स्थिति के हिसाब से करेगी क्राइम कंट्रोल

– डीजीपी ने अधीनस्थों को भेजा सर्कुलर

– बोले- चंद्र की कलाओं को जानने में हिंदू पंचांग करेगा मदद

लखनऊ। यूपी पुलिस के महानिदेशक (डीजीपी) विजय कुमार ने अपने मातहतों को हिंदू पंचाग के आधार पर चंद्रमा की गतिविधि के हिसाब से पुलिसिंग करने का आदेश दिया है। इसके साथ ही उन्होंने आम लोगों को भी इसी आधार पर सतर्क रहने की सलाह दी है। उनका कहना है कि चंद्रमा की स्थिति के हिसाब से अपराध का ग्राफ भी घटता-बढ़ता रहता है। चंद्रमा की कलाओं को जानने के लिये सबसे आसान तरीका हिंदू पंचांग है।
श्री कुमार ने 14 अगस्त को सभी वरिष्ठ पुलिस अफसरों को भेजे अपने सर्कुलर में बताया है कि वे किस तरह से चंद्रमा की ‘कलाओं’ के आधार पर पुलिसिंग कर सकते हैं। उन्होंने अपने इस परिपत्र पर विस्तार से बात करते हुए सोमवार को जारी एक वीडियो में बताया कि आम जनता को भी यह जानना इसलिये जरूरी है ताकि उसे पता रहे कि अपराधी किस वक्त अपनी गतिविधियां करते हैं।
चंद्रमा के उदय और अस्त होने की जानकारी जरूरी
उन्होंने एक चार्ट के माध्यम से इसे स्पष्ट करते हुए कहा कि चांद की गतिविधियों की तरह से अपराध का ग्राफ भी घटता-बढ़ता रहता है। इससे पता चलता है कि किस तारीख को चंद्रमा कितने बजे उगता और अस्त होता है। रात कब आंशिक रूप से और कब बिल्कुल अंधेरी होती है। जनता को जानना चाहिये ताकि वह सतर्क रहे और पुलिस को भी यह जानना चाहिये ताकि वह उस समय सबसे ज्यादा मुस्तैद रहे।
उन्होंने चार्ट के जरिये इसे बेहतर तरीके स्पष्ट करते हुए कहा कि आठ अगस्त को छह बजे शाम से रात 12 बजे तक पूरा अंधेरा रहता है और अपराधी पूरी सक्रियता से काम कर सकते हैं। इसके बाद 16 अगस्त को अमावस्या का समय था। इसमें चंद्रमा का उदय सुबह छह बजे होता है और शाम छह बजे वह अस्त हो जाता है। इसका मतलब 16 अगस्त को पूरी रात बिल्कुल अंधेरा होता है। उस वक्त पूरी रात अपराधियों के लिये बड़ी मुफीद होती है।
डीजीपी ने बताया कि 24 अगस्त को चांद शाम को छह बजे से रात 12 बजे अस्त हो जाता है। यानी कि रात 12 बजे से सुबह छह बजे तक अंधेरी रात होती है जिसमें अपराधी अपना काम करते हैं।
इसके अलावा पूर्णमासी के बाद जो सप्तमी आती है, उससे लेकर अमावस्या की सप्तमी के बीच का समय अपराधियों के लिये बड़ा उपयुक्त है, क्योंकि वह भी पूरी अंधेरी होती है। इस बात को जानने के लिये हिंदू पंचांग का प्रयोग कर सकते है। मतलब यह पंचांग से हम यह जान सकते हैं किस तारीख को अंधेरी रात होगी उस रात में हमें और सतर्क रहना चाहिए।
कृष्ण पक्ष की अमावस्या के आसपास अलर्ट रहने की जरूरत
कुमार ने कहा, ”यह पंचांग बताता है कि किस रात में अमावस्या है, कब शुक्ल पक्ष और कब कृष्ण पक्ष की सप्तमी है। इसी के बीच पुलिस को विशेष रूप से सतर्क रहना है, क्योंकि वह रात पूरी तरह से अंधेरी होती है और अंधेरा अपराधियों के लिए मुफीद होता है। वह अधिक सक्रिय होते हैं। इसी आधार पर पुलिस को और जनता को भी यह जान लेना चाहिये कि कब अपराधी ज्यादा सक्रिय होते हैं। इस सर्कुलर का यही उद्देश्य था। यह जनता के लिये भी उपयोगी है। हर आदमी को जानना चाहिये कि अपराधी कब उनके आसपास गतिविधि कर सकते हैं।”

Newsworldvoice.com ( News World Voice ) एक लोकप्रिय राष्ट्रीय हिन्दी न्यूज़ वेबसाइट है। इस न्यूज़ वेबसाइट के माध्यम से हम सभी ताजा खबरें और समाज से जुड़े सभी पहलुओं को आपके सामने प्रस्तुत करते है।

लगभग 25 लाख से अधिक व्यूज के साथ लगभग 1 लाख से अधिक दर्शक हमारे साथ जुड़ चुके है

अपने किसी भी सुझाव के लिए आप हमे newsworldvoice@gmail.com पर और व्हाट्सअप नंबर 8979456781 पर संपर्क करे

Leave a Comment