Search
Close this search box.

ठगों ने सीएम योगी को भी नहीं बख्शा

– फर्जी कंपनी बनाकर भाजपाइयों को ही लगाया चूना

– कंपनी के सीईओ की तलाश में जुटी गोरखपुर पुलिस

गोरखपुर। शातिर दिमाग लोगों ने फर्जी कंपनी बनाकर सीएम योगी आदित्यनाथ के नाम का उपयोग कर लोगों को चूना लगा रही है। बुलंदशहर से लेकर कानपुर के भाजपा कार्यकर्ताओं से ठगी के मामले सामने आ भी चुके हैं। शिकायत के बाद पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर जांच शुरू कर दी है।
योगी कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया नाम की कंपनी इन दिनों सुर्खियों में है। इसके कथित सीईओ की तलाश गोरखपुर, कानपुर से लेकर बुलंदशहर की पुलिस कर रही है। दरअसल, यह कंपनी सीएम योगी आदित्यनाथ के नाम का उपयोग कर लोगों के ठगी कर रही है। बुलंदशहर से लेकर कानपुर के भाजपा कार्यकर्ताओं से ठगी के मामले सामने आ भी चुके हैं। अभी कितने लोग ठगी के बाद खामोशी ओढ़े हुए हैं, यह आने वाले दिनों में ही पता चलेगा। कंपनी कुछ दिन पहले बुलंदशहर की भाजपा नेत्री से ठगी को लेकर चर्चा में थी। इस बार कानपुर की भाजपा नेत्री द्वारा केस दर्ज कराने के बाद कंपनी सुर्खियों में है। कानपुर, सचेंडी के गढ़ी भीमसेन की रहने वाली रंजना सिंह ने संस्था के सीईओ और निदेशक पर कैंट थाने में कूटरचित जालसाजी का केस दर्ज कराया है।
रंजना सिंह भारतीय जनता पार्टी में मंडल मंत्री हैं। उनका कहना है कि रोजगार सेवक वाट्सएप ग्रुप पर उनको कुछ दिन पहले एक लिंक मिला। उस लिंक के माध्यम से वह योगी कारपोरेशन आफ इंडिया में जुड़ गईं। कुछ दिन बाद ग्रुप के संयोजक केदारनाथ ने फोन कर आधार कार्ड की कापी व फोटो और रुपये की मांग की। बताया गया कि इस ग्रुप का कानपुर नगर का प्रभारी बनाया जा रहा है। ग्रुप में योगी नाम का इस्तेमाल किया गया था लिहाजा भरोसा करके उन्होंने दस्तावेज भेज दिया, जिसके बाद कानपुर नगर प्रभारी के नाम से उनका पहचान पत्र वाट्सएप ग्रुप पर संस्था ने भेज दिया। फेसबुक पर उन्होंने पहचान पत्र को पोस्ट किया तो लोगों ने बताया कि यह फर्जी संस्था है। पहचान पत्र पर गोरखनाथ मंदिर का पता लिखा था।

बुलंदशहर की भाजपा नेत्री को भी ठगा
बुलंदशहर के शेखूपुर रौरा की रहने वाली रीना चौधरी के साथ भी ठगी हो चुकी है। कंपनी की तरफ से उन्हें फर्जी पत्र भेजकर 30 नवम्बर को गोरखपुर मठ कार्यालय पर बुलाया गया था। पत्र के अनुसार उन्हें नारी शक्ति विशेष पदाधिकारी के रूप में शपथ लेना था। रीना ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जनता दर्शन में पहुंच कर की तो कैंट पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। हालांकि 15 दिन बाद भी पुलिस इस नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है कि इसमें कौन शामिल था।
बताया जा रहा है कि रंजना की तरह एक दर्जन से ज्यादा लोग शिकार हुए हैं। पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। माना जा रहा है कि कथित सीईओ योगी केदारनाथ बदला हुआ नाम है, असल नाम कुछ और है।
महिला भाजपा नेता रंजना सिंह की तहरीर पर कैंट पुलिस ने संस्था के सीईओ केदारनाथ और निदेशक हर्षनाथ के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया है। इस मामले को पुलिस ने गंभीरता से लिया और संस्था से जुड़े लोगों की तलाश शुरू हुई तो चौंकाने वाली जानकारियां सामने आ रही हैं।

एक महराजगंज का तो दूसरा गाजियाबाद का है जालसाज
उनकी पहचान महराजगंज जिले के सतगुरू मुजुरी बाजार थाना पनियारा के रहने वाले योगी केदार नाथ उर्फ केदार नाथ अग्रहरी और गाजियाबाद जयन्तीपुरम थाना मधुबनबाबूधाम के हर्ष चौहान उर्फ योगी हर्षनाथ के रुप में हुई। पुलिस ने गिरफ्तार कर उनके पास से 87 फर्जी परिचय पत्र, 87 फर्जी नियुक्ति प्रमाण पत्र, 83 फर्जी लेटर पैड, 8 विभिन्न व्यक्तियों के प्रार्थना पत्र, दो मोबाइल फोन, 8 विभिन्न व्यक्तियों के नाम से जारी फर्जी आईडी कार्ड, और एक भाजपा का फर्जी परिचय पत्र भी बराम किया है, जिसमें आरोपी केदारनाथ ने खुद को प्रदेश महामंत्री लिखवाया है।

Newsworldvoice.com ( News World Voice ) एक लोकप्रिय राष्ट्रीय हिन्दी न्यूज़ वेबसाइट है। इस न्यूज़ वेबसाइट के माध्यम से हम सभी ताजा खबरें और समाज से जुड़े सभी पहलुओं को आपके सामने प्रस्तुत करते है।

लगभग 25 लाख से अधिक व्यूज के साथ लगभग 1 लाख से अधिक दर्शक हमारे साथ जुड़ चुके है

अपने किसी भी सुझाव के लिए आप हमे newsworldvoice@gmail.com पर और व्हाट्सअप नंबर 8979456781 पर संपर्क करे

Leave a Comment