Search
Close this search box.

बिहार के अररिया में दिनदहाड़े पत्रकार की हत्या

– घर के मेनगेट खुलवाकर अपराधियों ने मारी गोली

– भाई की हत्या में मुख्य गवाह थे विमल

अररिया। बिहार में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। बदमाशों ने अररिया के रानीगंज में दिनदहाड़े दैनिक अखबार के पत्रकार विमल यादव की हत्या कर दी। अपराधियों ने घर के दरवाजे पर चढकर मेन गेट खुलवाया। जैसे ही पत्रकार गेट पर आए वैसे ही सीने में गोली दाग दी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और जांच में जुट गई।
पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। हत्या की सूचना मिलते ही सदर अस्पताल में पत्रकार, स्थानीय लोग और परिजनों की भीड़ लग गई। परिजनों का आरोप है कि सुपौल जेल में बंद रूपेश ने ही हत्या की साजिश रची थी। उसने जेल से ही हत्या की सुपारी दी थी।
परिजनों का कहना है कि 4 साल पहले यानी अप्रैल 2019 में विमल यादव के छोटे भाई गब्बू यादव की हत्या कर दी गई थी। उस वक्त गब्बू यादव बेलसरा पंचायत के सरपंच थे। विमल अपने भाई की हत्याकांड के मुख्य गवाह थे। केस का स्पीडी ट्रायल चल रहा था। विमल की मुख्य गवाही होनी थी। अचानक उनकी हत्या कर दी गई। परिजनों का कहना है कि जिसने गब्बू यादव की हत्या करवाई, उसने ही विमल की हत्या की सुपारी दी है। गवाही के बाद आरोपी को डर था कि उसे उम्रकैद की सजा न हो जाए इसलिए बचने के लिए उसने ऐसा किया।